ॐ श्री गणेशाय नमः

 कुछ बाते हैं जिनको बताया जाना आवश्यक है । सम्बद्ध पाठक का चुनाव है पढना या ना पढना, पर फिर भी, बताया जाना आवश्यक है । यह दैनंदिनी अनकही बातों को बतलाने का माध्यम है । मत बदलते रहेंगे पर इतिहास इन वाक्यों में सहेजा रहेगा इस परोक्ष माध्यम पर ।

संवादों की चिंगारी जलेंगी, आँदोलन शुरू होंगे, कुछ ज्यादा नहीं बस एक विचार के फैलने से ।